UP Board कक्षा 10वीं हिंदी अर्धवार्षिक पेपर 2022 PDF Download

UP board Class 10th Hindi half yearly paper 2022| कक्षा दसवीं हिंदी अदवार्षिक पेपर 2022 यह प्रश्न आएंगे
UP board Class 10th Hindi half yearly paper 2022| कक्षा दसवीं हिंदी अदवार्षिक पेपर 2022 यह प्रश्न आएंगे

Up board Class 10th Hindi half yearly paper 2022 PDF:- हेलो दोस्तों आज हम यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं हिंदी अर्धवार्षिक पेपर 2022 (Up board Class 10th Hindi half yearly paper) के बारे में आपको बताने वाले हैं अगर आप भी यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं के छात्र हैं और यूपी बोर्ड अदवार्षिक परीक्षा देने वाले हैं और गूगल पर कक्षा 10वीं हिंदी अर्धवार्षिक पेपर को लेकर सर्च कर रहे हैं तो छात्रों आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं क्योंकि हम आपको क्लास 10th यूपी बोर्ड हिंदी अर्धवार्षिक पेपर /Up board Class 10th Hindi half yearly paper 2022 के लिए जो प्रश्न इस पोस्ट में बताने वाले हैं उन सभी प्रश्नों को रख लीजिए क्योंकि यही प्रश्न आपकी क्लास 10TH हिंदी अर्धवार्षिक पेपर के लिए V. Imp प्रश्नों में से हैं और इस बार अर्धवार्षिक परीक्षा में अच्छे नंबर लाना सभी छात्रों के लिए जरूरी है क्योंकि इस बार अदवार्षिक परीक्षा के नंबर ऑनलाइन चढ़ाए जाएंगे इसलिए छात्रों को प्रत्येक विषय के अर्धवार्षिक पेपर पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है और आज हम इस पोस्ट में क्लास 10TH हिंदी अर्धवार्षिक पेपर के लिए जो प्रश्न बता रहे हैं इन सभी प्रश्नों को अवश्य रट ले

UP board Class 10th Hindi Half yearly paper 2022 overview

 

UP Board Class 10th Math half yearly paper 2022

board name

UP Board /upmsp.edu.in/ 

exam name

half yearly exam 2022

 

Class

10th

 

paper

hindi half yarly paper

 

website

click hear

 

official website

click hear

 
 
 

Class 10th Hindi half yearly question paper 2022 | यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं हिंदी अर्धवार्षिक परीक्षा 2022

अर्धवार्सिक परीक्षा 2022-23 

कक्षा – दसवी

विषय – हिन्दी

समय 2:00 घंटे                                                 पूर्णाक -70

____________________________________

आलोक: सभी प्रश्नों के उत्तर अनिवार्य है। 

(i) प्रश्न पत्र दो खंडों में विभाजित है। खंड अ और खंड ब 

(ii) खंड अ- में 20  अंको के बहुविकल्पीय प्रश्र दिए गए है।

(iii) खंड ब – में 50 अंको के वर्णात्मक प्रश्र दिए गए है।

प्रत्येक प्रश्न के सम्मुख निर्धारित अंक अंकित है।

                              खण्ड अ

       ___________________________

प्रश्न 1. शुक्ल युग के सशक्त आलोचक एवं निबंधकार का नाम है 

i रामचंद्र शुक्ल

ii  प्रताप नारायण मिश्र 

iii राधाचरण गोस्वामी 

iv राधा कृष्ण दास

प्रश्न 2. त्यागपत्र किस विधा की रचना है?

i  जीवनी

ii नाटक

iii उपन्यास 

iv निबंध

प्रश्र 3. निम्न में से शुक्ल युग के नाटककार है—

i  हरि कृष्ण प्रेमी

ii लक्ष्मीनारायण मिश्र 

iii विष्णु प्रभाकर 

iv धर्मवीर भारती

प्रश्न 4. मेरा परिवार रेखा चित्र किसकी कृति है? 

i प्रेमचंद्र

ii लल्लू लाल 

iii महादेवी वर्मा 

iv रामकुमार वर्मा

प्रश्र 5. राय कृष्णदास निम्न में से कौन थे ?

i निबंधकार

ii आलोचक 

iii गद्य गीतकार 

iv कवि

प्रश्न 6. ऋतिक ग्रंथ कितने रूपों में मिलते हैं

i  3

ii 4

iii 5

iv 2

प्रश्न 7. निम्न में से कौन सी रचना पद्माकर द्वारा लिखी गई है?

i  रसराज 

ii कवि प्रिया

iii गंगा लहरी 

iv शिवा बावनी

प्रश्न 8. रामकुमार वर्मा द्वारा रचित प्रबंधकाव्य है—

i  आंसू 

ii यामा 

iii उत्तरायण

iv  चौखे चौबदे

प्रश्न 9. पलास वन के रचनाकर है

i भूषण 

ii नरेंद्र शर्मा

iii  श्रीधर पाठक 

iv मीराबाई

प्रश्र 10.  कश्मीर सुषमा के रचनाकर है

i श्रीधर पाठक 

ii मलिक मोहम्मद जायसी 

iii सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

iv महादेवी वर्मा

प्रश्न 11.’हृदय सिन्धु में उठता, स्वर्गिक ज्वार देख चन्द्रानन।’ पंक्ति में अलंकार है—

i रूपक

i श्लेष

ii उत्प्रेक्षा

iii उपमा

 प्रश्र 12. सुनत सुमंगल बैन, मन प्रमोद तन पुलक भर ।

सरद सरोरुह नैन, तुलसी भरे सनेह जल ।। 

इन पंक्तियों के दूसरे और चौथे चरण में कितनी मात्राएँ हैं?

i  13-13 मात्राएँ 

ii 11-11 मात्राएँ

iii 20-20 मात्राएँ  

iv 99 मात्राएँ

प्रश्न 13.’अध्यक्ष’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है—

i अ 

ii आ

iii अधि

iv अभि ‘

प्रश्न 14. हँसाई’ शब्द में कौन-सा प्रत्यय लगा है? 

i आई

ii इ

iii ई

iv साई

प्रश्र 15. ‘पंचानन’ का समास विग्रह है—

i पाँच सिरों का समाहार 

 ii पाँच पात्रों का समाहार

iii पाँच प्रल्लवो का समाहार

iv पाँच तत्त्वों का समाहार

प्रश्र 16. ‘सुहाग’ शब्द का तत्सम रूप होगा—

i  सुहागा 

ii  सौभाग्य

iii दुर्भाग्य

iv स्वामी 

प्रश्न 17. ‘कर्त्राज्ञा’ का सन्धि-विच्छेद है—

i कर्तृ + आज्ञा 

ii  कर्ता + आज्ञा

iii कर्त्र + आज्ञा

iv कर्त्रा + आज्ञा

प्रश्न 18.’मतेः’ रूप है ‘मति’ शब्द का—

i  षष्ठी विभक्ति एकवचन

ii पंचमी विभक्ति एकवचन

iii चतुर्थी विभक्ति, द्विवचन 

iv सप्तमी विभक्ति, बहुवचन

प्रश्न 19. ‘हसिष्यथः ‘ रूप है ‘हस्’ धातु का —

i  लृट् लकार, मध्यम पुरुष, द्विवचन 

ii लृट् लकार, प्रथम पुरुष, एकवचन

iii  लट् लकार, उत्तम पुरुष, बहुवचन 

iv लोट् लकार, मध्यम पुरुष, एकवचन

प्रश्र 20, विपति बटावन बन्धु बाहु बिनु करो भरोसो का को’ में रस की पहचान कीजिए।

i  रौद्र रस 

ii करुण रस

iii शान्त रस

iv  हास्य रस

                             खण्ड ‘ब’

      ___________________________

21. निम्नलिखित गद्यांशों में से किसी एक के नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए ।                    

                                                        (3× 2 = 6)

(क) अश्वारोही पास आया। ममता ने रुक-रुककर कहा- “मैं नहीं जानती कि वह शहंशाह था, या साधारण मुगल; पर एक दिन इसी झोपड़ी के नीचे वह  रहा। मैने सुना था कि वह मेरा पर बनवाने की आज्ञा दे चुका था। मैं आजीवन अपनी झोपड़ी के खोदे जाने के डर से भयभीत रही। भगवान ने सुन लिया, मैं आज इसे छोड़े जाती हूँ। तुम इसका मकान बनाओ या महल में अपने चिर विश्राम गृह में जाती हैं।”

i ) प्रस्तुत अवतरण का सन्दर्भ लिखिए।

ii) रेखांकित अंश की व्याख्या कीजिए। 

(ii) ‘चिर- विश्राम गृह’ से क्या आशय है ?

                         अथवा

(ख) कुसंग का ज्वर सबसे भयानक होता है। यह केवल नीति और सवत्ति का ही नाश नहीं करता, बल्कि वृद्धि का भी क्षय करता है। किसी युवा पुरुष की संगति यदि बुरी होगी तो वह उसके पैरो में बंधी चक्की के समान होगी, जो उसे दिन-दिन अवनति के गड्डे में गिराती जाएगी और यदि अच्छी होगी तो सहारा देने वाली बाहु के समान होगी, जो उसे निरन्तर उन्नति की और उठाती जाएगी।

i  प्रस्तुत अवतरण के पाठ और लेखक का नाम लिखिए।

ii  रेखांकित अंश की व्याख्या कीजिए।

iii युवा पुरुष की संगति के बारे में क्या कहा गया है ?

22. निम्नलिखित पाद्यांशो में से किसी एक के नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए । 

                                                      (3 × 2  = 6 )

(क) पुरते निकसी रघुवीर बधू, धरि धीर दए मग में डग है।

झलको भरि भात कनी जल की, पुट सूख गये मधुराधर वे।।  फिरि बुझती है- “चलनो अब केतिक, पर्णकुटी करिहो कित  है?”  तिय को लखि आतुरता पिय की अंखिया अति चारु चली जल चवै । 

i प्रस्तुत पद्यांश की संदर्भ  हिन्दी में व्याख्या कीजिए तथा

काव्य-सौन्दर्य भी स्पष्ट कीजिए।

ii  किस कारण सीताजी के माथे पर पसीना आ रहा था और होठ सूख गए थे? 

iii श्रीराम के नेत्रों से आँसू क्यों बहने लगे?

                         अथवा

(ख )  मेरे जीवन का आज मूक,

       तेरी छाया से हो मिलाप;

        तन तेरी साधकता छू ले,

      मन ले करुणा की थाह नाप !

        उर में पावस दृग में विहान !

(i) प्रस्तुत पद्यांश की ससंदर्भ हिन्दी में व्याख्या कीजिए तथा काव्य-सौन्दर्य भी स्पष्ट कीजिए।

(ii) “कवयित्री अपने जीवन को हिमालय के समान जीना चाहती हैं।” इस कथन क्या तात्पर्य है?

(iii) कवयित्री ने क्या कामना व्यक्त की है?

यह भी पढ़ें

यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं हिंदी अर्धवार्षिक पेपर 2022

यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं अंग्रेजी अर्धवार्षिक पेपर 2022

कक्षा 10वीं गणित अर्धवार्षिक पेपर 2022 UP Board

यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं विज्ञान अर्धवार्षिक पेपर 2022

यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं सामाजिक विज्ञान अर्धवार्षिक पेपर 2022

यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं संस्कृत अर्धवार्षिक पेपर 2022

प्रश्न 23. (क) निम्नलिखित लेखकों में से किसी एक लेखक का जीवन-परिचय देते हुए उनकी किसी एक प्रमुख रचना का नाम लिखिए —

                                                        (3+2 =5 )

i राजेन्द्र प्रसाद 

ii जयशंकर प्रसाद

iii रामचंद्र शुक्ल 

(ख) निम्नलिखित कवियों में से किसी एक कवि का जीवन-परिचय देते हुए उनकी किसी एक प्रमुख रचना का नाम लिखिए —  

                                                       (3+2= 5)

(i) सूरदास

iii सुमित्रानन्दन पंत

iii  बिहारी लाल 

24. (क) निम्नलिखित संस्कृत गद्यांशों में से किसी एक का सन्दर्भ-सहित हिन्दी में अनुवाद कीजिए— 

                                                        (2+3=5)

(i) एषा नगरी भारतीयसंस्कृतेः संस्कृतभाषायाश्च केन्द्रस्थली अस्ति । इत एव संस्कृतवाङ्मयस्य संस्कृतेश्च आलोकः सर्वत्र प्रसृतः । मुगलयुवराजः दाराशिकोहः अत्रागत्य भारतीय-दर्शन-शास्त्राणाम् अध्ययनम् अकरोत्। स तेषां ज्ञानेन तथा प्रभावितः अभवत्, यत् तेन उपनिषदाम् अनुवाद: पारसी भाषायां कारितः ।

(ii) “एकदा बहवः जनाः धूमयानं (रेलगाड़ी) आरुह्य नगरं प्रति गच्छन्ति स्म । तेषु कंचित् ग्रामीणाः केचिच्च नागरिका: आसन्। मौनं स्थितेषु तेषु एकः नागरिकः ग्रामीणान् उपहसन् अकथयत्, “ग्रामीणाः अद्यपि पूर्ववत् अशिक्षिताः अज्ञाश्चसन्ति। न तेषां विकासः अभवत् न च भवितुम् शक्नोति।” तस्य तादृशं जल्पनं श्रुत्वा कोऽपि चतुर: ग्रामीणः अब्रवीत्, “भद्र नागरिक। भवान् एव चिञ्चित् ब्रवीतु, यतो

हि भवान् शिक्षित: बहुज्ञः च अस्ति।”

(ख) निम्नलिखित संस्कृत पद्यांशो में से किसी एक का सन्दर्भ किजिए—

                                                   (2+3=5)

i उत्तरं यत् समुद्रस्य हिमाद्रेश्चैव दक्षिणम् ।

वर्षं तद् भारतं नाम भारती यत्र सन्ततिः ।।

(ii) यथा सोम्यैकेन नखनिकृन्तनेन सर्वं कार्ष्णायसं विज्ञातं स्याद्वाचारम्भणं विकारो नामधेयं कृष्णायसमित्येव सत्यमेवं सोम्य स आदेशो भवतीति ॥

(ग) अपनी पाठ्य-पुस्तक के ‘संस्कृत-खण्ड’ से कण्ठस्थ किया हुआ कोई एक श्लोक लिखिए जो इस प्रश्न-पत्र में न आया हो।

                                                       (2×1=2)

(घ) निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर संस्कृत में

लिखिए। 

                                                     (2+2=4)

(i) वाराणसी नगरी केषां सङ्गमस्थली अस्ति ?

(ii) चन्द्रशेखरः स्वपितुः नाम किम् अकथयत् ? (iii) दाराशिकोहः कस्यां भाषायाम् उपनिषदाम् अनुवादम्

अकारयत् ?

(iv) पुरुराजः कः आसीत्? 

(v) ग्रामीणान् कः उपाहसत् ?

प्रश्न 25. निम्न विषयों में से किसी एक विषय पर निबंध लिखें—

                                                    (9×1=9)

i स्वदेश प्रेम

ii नारी शिक्षा का महत्त्व

iii वर्षा ऋतु

iv देशाटन के लाभ

26. स्वपठित खण्डकाव्य के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नों में से किसी एक खण्ड के प्रश्नों के उत्तर लिखिए—

                                                          (3×1=3)

(क)  i  तुमुल’ खडकाव्य की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए। 

ii ‘तुमुल’ काव्य के नायक को चारित्रिक विशेषताओं का निरूपण कीजिए।

(ख)  (i) ‘कर्मवीर भरत’ खण्डकाव्य की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए।

(ii) ‘कर्मवीर भरत’ खण्डकाव्य के आधार पर भरत का

चरित्र-चित्रण कीजिए।

(ग)  (i) ‘कर्ण’ खण्डकाव्य के नायक के चरित्र का चित्रण कीजिए।

(ii) ‘कर्ण’ खण्डकाव्य की कथा संक्षेप में लिखिए। 

(घ)  (i) ‘अग्रपूजा’ खण्डकाव्य की कथावस्तु पर संक्षेप में प्रकाश डालिए।

(ii) ‘अग्रपूजा’ के प्रधान पात्र की चारित्रिक विशेषताओं का वर्णन कीजिए।

(ङ) (i) ‘ज्योति- जवाहर’ खण्डकाव्य का सारांश अपने शब्दों में लिखिए। 

(ii) ‘ज्योति-जवाहर’ खण्डकाव्य के प्रधान पात्र का चरित्र-चित्रण कीजिए।

(च) (i) ‘मातृभूमि के लिए’ खण्डकाव्य के प्रथम सर्ग की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए।

(ii) ‘मातृभूमि के लिए’ खण्डकाव्य के नायक का चरित्र-चित्रण कीजिए।

 (छ) (i) ‘मेवाड़-मुकुट’ के नायक का चरित्र-चित्रण कीजिए।

(ii) ‘मेवाड़ मुकुट’ खण्डकाव्य की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए। 

(ज) (i) ‘जय सुभाष’ खण्डकाव्य की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए। (ii) ‘जय सुभाष’ खण्डकाव्य के नायक का चरित्र-चित्रण कीजिए।

 (झ) (i) ‘मुक्ति दूत’ खण्डकाव्य के प्रमुख पात्र की चारित्रिक विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।

(ii) ‘मुक्ति दूत’ खण्डकाव्य का कथासार प्रस्तुत कीजिए।

Note:- यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं हिंदी का अदवार्षिक पेपर 2022 के बारे में अगर आपको कुछ पूछना है तो मैं कमेंट करें और इस पोस्ट को अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें।

Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here