NCERT Class 10th science chapter 2 important question, solutinon….

NCERT Class 10th science chapter 2 important question, solutinon....
NCERT Class 10th science chapter 2 important question, solutinon....

NCERT Class 10th science chapter 2 important question, solutinon- हेलो दोस्तों आज हम क्लास 10th साइंस चैप्टर 2 के इंपोर्टेंट क्वेश्चन इस पोस्ट के अंदर देखने वाले हैं क्योंकि वार्षिक परीक्षाओं की तैयारी के लिए अधिकतर विद्यार्थी important question से तैयारी करते हैं अगर आप भी एनसीआरटी क्लास 10th साइंस चैप्टर 2 के इंपोर्टेंट क्वेश्चन गूगल पर सर्च कर रहे हैं तो यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण होने वाली है क्योंकि हम आपको इस पोस्ट के अंदर क्लास 10th साइंस के इंपोर्टेंट क्वेश्चन (10th science important questions) बताने वाले और आप सभी छात्रों के लिए अच्छी बात यह है कि हम आपको इस पोस्ट के अंदर एनसीआरटी सलूशन भी देने वाले हैं इसलिए आप इस पोस्ट को पूरा ध्यान से पढ़ें।

NCERT 10th science chapter 2 Most important question With solutinon

Class –. 10th 

Science important question with answers

Chapter – 2

 प्रश्न 1. धोने का सोडा एवं बेकिंग सोडा के 2-2 प्रमुख उपयोग बताइए।

उत्तर –  धोने के सोडा का उपयोग – 

  1. धोने के सोडा के उपयोग इसका उपयोग कांच साबुन एवं कागज उद्योग में होता है ।
  2. इसका उपयोग घरों में साफ-सफाई के लिए होता है 

बेकिंग सोडा के उपयोग-

  1.  इसका प्रमुख उपयोग बेकरी में उपयोग आने वाली बेकिंग पाउडर बनाने में होता है।
  2.  इसका उपयोग सोडा अम्ल अग्निशामक में किया जाता है

प्रश्न 2. pH मान से क्या आशय है? दैनिक जीवन में pH का क्या महत्व है।

उत्तर- pH मान-  किसी भी विलयन की pH वैल्यू एक संख्या है जो उस विलयन की सांद्रता (Concentration) बताती है। इसी मान के आधार पर उस प्रदार्थ की अम्लता और क्षारीयता प्रदशित होती है। विलयन में H आयनों की सांद्रता का नेगेटिव लोगरिदम (Negative Logarithm) ही pH मान कहलाता है।

दैनिक जीवन में pH का महत्व- 

1. हमारा शरीर 7.0 से 7.8 pH परास के बीच कार्य करता है।

2. मिटटी की pH की प्रकृति अम्लिय हो तो फसल के लिए अनुकुल नहीं होती है।

3. हमारे उदर में हाइड्रोक्लोरिक अम्ल होता है जो उदर को हानि पहुॅचाए बिना पाचन में सहायता करता है।

4. यदि मुॅह का चभ् मान 5.5 से कम हो तो दॉतो का क्षय हो जाता है।

प्रश्न 3. उदासीनीकरण अभिक्रिया क्या है दो उदाहरण लिखिए उत्तर-  उदासीनीकरण-  अम्ल और क्षारक परस्पर अभिक्रिया करके एक दूसरे को उदासीन कर देते हैं और लवण एवं जल का निर्माण करते हैं यह प्रक्रिया उदासीनीकरण अभिक्रिया कहलाती है।

उदाहरण- 

  1.  HCl + NaOH  ―›  NaCl + H2O

अम्ल      क्षारक          लवण    जल

  1. H2SO4 + Ca(OH)2  ―› CaSO4 + 2H2O

अम्ल          क्षारक             लवण              जल

प्रश्न 4.  क्लोर क्षार अभिक्रिया क्या है? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए ।

उत्तर- क्लोर क्षार अभिक्रिया :―  जब सोडियम क्लोराइड के जलीय विलियन में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है तो यह वियोजित  होकर क्लोरीन गैस एवं सोडियम हाइड्रोक्साइड (क्षार) उत्पादित करते हैं इस प्रक्रिया को क्लोर क्षार प्रक्रिया क्लोर क्षार अभिक्रिया कहते हैं ।

उदाहरण – 

2NaCl(aq) + 2H2O ―› 2NaOH(aq) + Cl2(g) + H2(g)

सोडियम हाइड्रोक्साइड विलियन कैथोड के पास बनता है।

प्रश्न 5.  निम्नलिखित की दो – दो उपयोग लिखिए। 

  1. विरंजक चूर्ण     2. बेकिंग सोडा   3. धोने का सोडा     4. सोडियम हाइड्रोक्साइड

उत्तर- 1. विरंजक चूर्ण के उपयोग- 

  1.  कागज एवं कपड़ों के विरंजन में किया जाता है ।
  2. कीटाणु नाशक के रूप में।

2. बेकिंग सोडा का प्रयोग –

  1. इसका प्रमुख उपयोग बेकरी में उपयोग आने वाले बेकिंग पाउडर बनाने में होता है ।
  2. इसका उपयोग सोडा अम्ल अग्निशामक में किया जाता है ।

3. धावन सोडा का उपयोग –

  1. इसका उपयोग का काँच, साबुन एवं कागज उद्योग में होता है ।
  2. इसका उपयोग घरों में साफ-सफाई के लिए होता है ।

4.  सोडियम हाइड्रोक्साइड का उपयोग- 

  1. इसका उपयोग लुगदी और कागज के कपड़े, पीने के जल, साबुन और डिटर्जेंट के निर्माण में किया जाता है।
  2.  चिकित्सा के क्षेत्र में, सोडियम हाइड्रॉक्साइड का उपयोग बीमारियों के उपचार, नियंत्रण, रोकथाम और सुधार के लिए किया जाता है।

प्रश्न 7.  निम्नलिखित का कारण लिखिए-

(अ) अम्ल का जलीय विलियन विद्युत का चालन करता है, क्यों?

(ब)  शुष्क हाइड्रोक्लोरिक गैस शुक्र का रंग क्यों नहीं बदलती है ?

(स) क्या होता है जब कॉपर सल्फेट बिलियन को गर्म करते हैं तत्पश्चात जल की 2-3 बूंदे मिलाते हैं रंग परिवर्तन की व्याख्या कीजिए।

उत्तर- (अ) अम्ल के जलीय विलियन में हाइड्रोजन आयन (H+) उत्पन्न होते हैं, जो विद्युत की वाहक होते हैं इसी कारण अम्ल के जलीय विलयन विद्युत का चालन करते हैं।

(ब) शुष्क हाइड्रोक्लोरिक गैस शुष्क लिटमस साथ हाइड्रोजन आयन (H+) नहीं बनाती इस कारण शुष्क हाइड्रोक्लोरिक गैस लिटमस पेपर का रंग नहीं बदलती है।

(स)  जब कापर सल्फेट क्रिस्टल को गर्म किया जाता है तो क्रिस्टल का जल लुप्त हो जाता है जिससे इनका नीला रंग भी लुप्त हो जाता है |

प्रश्न 8.  प्लास्टर ऑफ पेरिस किसे कहते हैं?  इसको आर्द्रता रोधी बर्तन में क्यों रखना चाहिए?

उत्तर- पेरिस प्लास्टर निर्जलित जिप्सम है, जो प्राय: श्वेत चूर्ण के रूप में मिलता है, यदि विशुद्ध जिप्सम (CaSo4. 2H2O) को 1000 से 1900 सें॰ तक गरम किया जाय, तो जलांश का तीन चौथाई भाग निकल जाता है और परिणामी पदार्थ पेरिस प्लास्टर (CaSO4. ½H2O) कहलाता है।

प्लास्टर ऑफ पेरिस आद्रता ग्राही होता है और आद्रता ( नमी या जलवाष्प) से क्रिया कर के कठोर ठोस पदार्थ का निर्माण करता है इसलिए प्लास्टर ऑफ पेरिस को आर्द्र- रोधी बर्तन में रखा जाना चाहिए।

CaSO4. ½H2O + 3H2O ―› 2CaSo4. 2H2O

प्लास्टर ऑफ पेरिस     जल              जिप्सम

प्रश्न 9. धातु के साथ अम्ल की अभिक्रिया होने पर सामान्यतः कौन-सी गैस निकलती है? एक उदाहरण के द्वारा समझाइए। इस गैस की उपस्थिति की जाँच आप कैसे करेंगे ?

उत्तर- धातु के साथ अम्ल की अभिक्रिया होने पर प्राय: हाइड्रोजन (H2) गैस निकलती है।

Zn + H2SO4  ―›  ZnSO4 + H2

धातु     अम्ल               लवण     हाइड्रोजन गैस

जब हम जलती हुई तीली इस गैस के पास लाते हैं तो यह फट-फट की ध्वनि के साथ जलती है।

प्रश्न 10.  निम्नलिखित का कारण लिखिये- 

1.  अम्ल को तनु करते समय अम्ल  को जल में मिलाना चाहिए न कि जल को अम्ल में क्यों?

2. HCI, HNO3 आदि जलीय विलयन में अम्लीय अभिलक्षण क्यों प्रदर्शित करते हैं, जबकि ऐल्कोहॉल एवं ग्लूकोज जैसे यौगिकों के विलयनों में अम्लीयता के अभिलक्षण प्रदर्शित नहीं होते हैं?

3. आसवित जल विद्युत् का चालक क्यों नहीं होता, जबकि वर्षा का जल होता है ?

4. जल की अनुपस्थिति में अम्ल का व्यवहार अम्लीय क्यों नहीं होता ?

उत्तर- 1. अम्ल का तनुकरण एक अत्यन्त ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया है तथा इसमें अत्यधिक मात्रा में ऊष्मा

उत्पन्न होती है। अम्ल को जल में मिलाने पर जो ऊष्मा उत्पन्न होती जाती है वह जल द्वारा शोषित कर ली जाती है। इसलिए अम्ल को तनुकृत करने के लिए इसे जल में मिलाते हैं।

2. HCl एवं HNO3 आदि जलीय विलयन में आयनित होकर हाइड्रोजन आयन (H+) अथवा हाइड्रोनियम आयन (H3O) बनाते हैं जिसके कारण विलयन में अम्लीयता के अभिलक्षण प्रदर्शित होते हैं, जबकि ऐल्कोहॉल एवं ग्लूकोज जैसे यौगिक आयनित नहीं होते। इसलिए उनके विलयन में अम्लीयता के अभिलक्षण प्रदर्शित नहीं होते।

3.  उत्तर-आसवित जल में हाइड्रोजन आयन (H+) अथवा हाइड्रॉक्साइड आयन (OH) नहीं होते जो विद्युत् के वाहक होते हैं। इसलिए आसवित जल विद्युत का चालक नहीं होता। वहीं दूसरी ओर वर्षा जल में कुछ अम्ल की मात्रा मिली होती है जो हाइड्रोजन आयन (H+) देती है, इसलिए वर्षा जल विद्युत् का चालक होता है।

4. जल की अनुपस्थिति में अम्ल हाइड्रोजन आयन (H+) नहीं देते जो अम्लीय व्यवहार के कारक है। इसलिए जल की अनुपस्थिति में अम्ल का व्यवहार अम्लीय नहीं होता है।

प्रश्न 11. मिल्क ऑफ मैग्नीशिया क्या है ? सूत्रों एवं उपयोग लिखिए।

उत्तर- मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड या ‘मिल्क ऑफ मैग्नेशिया’ एंटासिड और रेचक गुणों वाला एक अकार्बनिक रासायनिक यौगिक है। मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड का रासायनिक सूत्र Mg(OH)2है। इसे मिल्क ऑफ मैग्नीशिया कहते हैं क्योंकि यह जल में घुल कर दूध जैसा दिखता है ।

उपयोग- 

  1. इसका उपयोग पेट की अम्लता दूर करने के लिए किया जाता है।
  2. मैग्नीशियम का उपयोग इप्सॉम नमक के रूप में चकत्ते के इलाज के रूप में और रेचक के रूप में भी किया जा सकता है।
  3. मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड आसमाटिक प्रभाव के माध्यम से छोटी आंत में पानी खींचने का काम करता है। द्रव संचय फैलाव पैदा करता है, जो आंत्र निकासी को बढ़ावा देता है।
  4. एक और अधिक महत्वपूर्ण व्यावसायिक उपयोग चमड़े की टैनिंग के साथ-साथ कपड़ों की रंगाई में भी होता है।

प्रश्न 12.  विरंजक चूर्ण का रासायनिक नाम सूत्र एवं उपयोग लिखिये।

उत्तर-  विरंजक चूर्ण का रासायनिक नाम – कैल्शियम ऑक्सिक्लोराइड 

विरंजक चूर्ण का सूत्र – CaOCl2

उपयोग- 

1.  कागज एवं कपड़ों के विरंजन में किया जाता है ।

2. कीटाणु नाशक के रूप में।

प्रश्न 13. सोडियम के दो लवणों के नाम एवं सूत्र लिखिए ।

उत्तर-  1. सोडियम क्लोराइड NaCl

 2. सोडियम सल्फेट  NaSO4

प्रश्न 14. जिप्सम में दो अणु क्रिस्टलन जल होता है इसका क्या तात्पर्य है? 

उत्तर-  जिप्सम में दो अणु क्रिस्टलन का जल लवण में जल के अणु को दर्शाता है। इसमें क्रिस्टलन के जल के दो अणु उपस्थित होते हैं।

प्रश्न 15. सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट के विलयन को गर्म करने पर क्या होगा? इस अभिक्रिया के लिए रासायनिक समीकरण लिखिए।

अथवा

सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट को गर्म करने पर कौन सी गैस निकलती है? इस गुणधर्म की उपयोगिता भी लिखिए।

उत्तर-  सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट के विलयन को गर्म करने पर सोडियम कार्बोनेट का विलयन बनता

है तथा कार्बन डाइऑक्साइड गैस निकलती है।

अभिक्रिया का रासायनिक समीकरण-

 उपयोगिता-

  1. ऐसिडिटी दूर करने मे  
  2.  सोडा अम्ल अग्निशामक
  3.   बेकिंग पाउडर बनाने मे   

प्रश्न 16. अम्लीय वर्षा क्या है ? इसका जीव धारियों पर क्या प्रभाव पड़ता है।

उत्तर-  पृथ्वी के वायुमंडल मे सल्फर डाइ  तथा नाइट्रोजन ऑक्साइड जब जल के साथ क्रिया करते है , तो नाईट्रिक अल्म और सल्फर डाइ ऑक्साइड या सुलफ्लूरिक अल्म बनाते है |जो वर्षा जल के रूप मे पृथ्वी पर आते है इसी को अम्लीय वर्षा कहते है | 

अम्लीय वर्षा का जीवधारियों पर प्रभाव –

·        जलिय प्राणियों की मृत्यु

·        कैंसर जैसी बीमारी

·        घातक तत्वो का पानी मे मिल जाना

·        पेड़ पौधों का नष्ट होना 

प्रश्न 17. प्लास्टर ऑफ पेरिस की जल के साथ अभिक्रिया का समीकरण लिखकर व्याख्या कीजिए।

उत्तर-  प्लास्टर ऑफ पेरिस (CaSO4 ½ H2O) जल के साथ अभिक्रिया करके जिप्सम (CaSO4.2H20) बनाता है और लगभग आधे घंटे में जम कर ठोस बन जाता है।

प्लास्टर ऑफ पेरिस की जल की साथ अभिक्रिया का समीकरण- 

CaSO4 ½  H2O  +   1 ½ H2O   →    CaSO4.2H2O

(प्लास्टर ऑफ पेरिस)        (जल)               जिप्सम

प्रश्न 18 निम्नलिखित अभिक्रिया के लिए पहले शब्द समीकरण लिखिए तथा उसके बाद संतुलित समीकरण लिखिए-

(a) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल दानेदार जिंक के साथ अभिक्रिया करता है।

(b) तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल मैग्नीशियम पट्टी के साथ अभिक्रिया करता है।

(c) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल ऐलुमिनियम चूर्ण के साथ अभिक्रिया करता है।

(d) तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल लोह के चूर्ण के साथ अभिक्रिया करता है।

उत्तर- शब्द समीकरण-

(a)  जिंक + सल्फ्यूरिक अम्ल ―›  जिंक सल्फेट + हाइड्रोजन 

     (दानेदार)     (तनु)                                       (गैस)

(b) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल + मैग्नीशियम ―›  मैग्नीशियम क्लोराइड + हाइड्रोजन

         (तनु)                     (पट्टी)

(c) ऐलुमिनियम चूर्ण + सल्फ्यूरिक अम्ल ―› (ऐलुमिनियम सल्फेट) + हाइड्रोजन

                                     (तनु)

(d) लोह रेतन + हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ―›   आयरन क्लोराइड + हाइड्रोजन

                              (तनु)

प्रश्न 19.  पाँच विलयनों A, B, C, D एवं E की जब सार्वत्रिक सूचक से जाँच की जाती है, तो pH के मान क्रमश: 4, 1, 11, 7 एवं 9 प्राप्त होते हैं, कौन-सा विलयन ?

(a) उदासीन है

(b) प्रबल क्षारीय है

(d) दुर्बल अम्लीय है

(c) प्रबल अम्लीय है

(e) दुर्बल क्षारीय है।

उत्तर -(a) विलयन ‘D’ उदसीन है। (pH = 7)

(b) विलयन ‘C’ प्रबल क्षारीय है। (pH = 11)

(c) विलयन ‘B’ प्रबल अम्लीय है। (pH = 1)

(d) विलयन ‘A’ दुर्बल अम्लीय है। (pH = 4)

(e) विलयन ‘E’ दुर्बल क्षारीय है। (pH = 9)

इन pH मानों को हाइड्रोजन आयनों की सान्द्रता के बढ़ते क्रम में व्यवस्थित कीजिए।

प्रश्न 20. प्रयोगशाला में हाइड्रोजन गैस बनाते समय एक परखनली में दानेदार जिंक लेकर उसमें तनु सल्फ्यूरिक अम्ल डाला जाता है तो हाइड्रोजन गैस बुलबुलों के साथ निकलती है। निम्न परिवर्तन करने पर क्या होगा ?

(a) दानेदार जिंक के स्थान पर जिंक पाउडर लिया जाए।

(b) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल की जगह तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल लिया जाए।

(c) जिंक के स्थान पर ताँबे की छीलन ली जाए।

(d) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल के स्थान पर सोडियम हाइड्रॉक्साइड लेकर परखनली को गर्म किया

उत्तर-(a) दानेदार जिंक के स्थान पर जिंक पाउडर लेने से पाउडर दानों की अपेक्षा अधिक तेजी से अभिक्रिया करेगा इससे अधिक तेजी से हाइड्रोजन गैस बनेगी

(b) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल के स्थान पर तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल लेने पर अभिक्रिया पूर्ववत् रहेगी तथा समान मात्रा में हाइड्रोजन गैस बनेगी।

(c) कॉपर की छीलन तनु सल्फ्यूरिक अम्ल से अभिक्रिया करके हाइड्रोजन विस्थापित नहीं करेगा। इस कारण इस अवस्था में हाइड्रोजन गैस नहीं बनेगी।

(d) जब तनु सल्फ्यूरिक अम्ल के स्थान पर सोडियम हाइड्रॉक्साइड लेकर गर्म किया जाता है तो वह जिंक से अभिक्रिया करके हाइड्रोजन गैस देता है इसलिए हाइड्रोजन गैस निकलेगी।

Zn + 2NaOH     ―›       Na2ZnO2 + H2

                                  (सोडियम जिंकेट)

Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here