MP board Class 11th Hindi प्रश्न बैंक Solution 2021 PDF

2

MP board Class 11th Hindi प्रश्न बैंक Full Solution 2021 PDF 

MP board विमर्श पोर्टल पर जारी की गई क्लास 11th के हिंदी सब्जेक्ट की प्रश्न बैंक के प्रश्नों का हल (Question bank solution) लेकर आए हैं जो कि आपके आने वाले क्लास 11TH हिंदी पेपर को हल करने के लिए यह पोस्ट आपके लिए बहुत इंपोर्टेंट होने वाली है तो इस पोस्ट को पूरा ध्यान से अवश्य पढ़िए जिससे आप अपनी क्लास 11th के हिंदी पेपर को आसानी के साथ सॉल्व कर सकते हैं और इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको क्लास 11th हिंदी प्रश्न बैंक solution की पीडीएफ आपको डाउनलोड कर आने वाले हैं तो आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए।

Class 11th Hindi prashn bank solution 

कक्षा 11वीं हिंदी

पद्य खंड

इकाई क्रमांक -1

2 अंक के प्रश्न

प्रश्न 1. कबीर ने अपने को दीवाना क्यों कहा है ?

उत्तर– कबीरदास जी ने परमात्मा के सच्चे स्वरूप के साथ साक्षात्कार कर लिया है। उन्होंने मायारूपी जगत तथा स्वयं के अन्दर विद्यमान ईश्वरीय तत्व के मध्य अन्तर को भली-भाँति समझ लिया है। वह बाहरी एवं भौतिक दुनिया के मोह-माया एवं आडम्बरों-पाखण्डों से दूर उस एक स्वरूपा परमात्मा की सच्ची भक्ति में लीन हो चुके हैं। एक साधक के रूप में अपने ईश्वर के प्रति उनकी सच्ची एवं अनन्य भक्ति ने उन्हें पागल सा कर दिया है। सम्भवत: इसीलिए कबीर ने अपने को दीवाना कहा है।

प्रश्न 2. कबीर ने नियम और धर्म का पालन करने वाले लोगों की किन कमियों की ओर संकेत किया है ?

उत्तर– कबीर के अनुसार नियम और धर्म का पालन करने वाले लोग नित्य नियमपूर्वक स्नान आदि करते हैं किन्तु स्वयं के भीतर छिपे ईश्वर तत्व को खोजने की बजाए वे उसे पेड़ों-पत्थरों में ढूँढ़ते-फिरते हैं। ऐसे लोगों को न तो ईश्वर के सच्चे व एकाकार स्वरूप का ज्ञान है और न ही वे इस बात से परिचित हैं कि ईश्वर किसी दिखावे अथवा आडम्बर-पाखण्ड में न होकर सृष्टि के कण-कण में विद्यमान है। कबीर के अनुसार ईश्वर को पाने के लिए मनुष्य को मात्र आत्मज्ञान की ही आवश्यकता है। ईश्वर तो सहज, सरल रूप में हर जगह मौजूद और व्याप्त है।

प्रश्न 3. लोग मीरा को बावरी क्यों कहते हैं ?

उत्तर– लोग कृष्ण के प्रति मीरा का अत्यधिक दाम्पत्य भाव धारण किये प्रेम प्रदर्शन देखकर उसे बावरी (पागल) कहते हैं। वे मानते हैं कि जिस प्रकार एक ब्याहता होते हुए भी मीरा अपने पैरों में धुंघरू बाँधकर सार्वजनिक रूप से कृष्ण को अपना पति मानते हैं, वह स्पष्ट रूप से उनके पागलपन का प्रतीक है। मीरा ने कृष्ण-प्रेम में अपना पति छोड़ा, राज परिवार छोड़ा, सभी नाते-रिश्ते त्यागे, समाज के उलाहने सहे, यहाँ तक कि विषपान भी किया किन्तु अपने कृष्ण के प्रति उनकी अनन्य भक्ति में तनिक भी कमी नहीं आती। अतः सभी लोग उन्हें कृष्ण की दीवानी (पागल) कहते हैं।

प्रश्न 4. लोक-लाज खोने का अभिप्राय क्या है ?

उत्तर– लोक-लाज खोने का शाब्दिक अर्थ है-समाज की मर्यादाओं का उल्लंघन करना, समाज अथवा कुटुम्ब द्वारा निर्धारित नियमों को तोड़ना। मीराबाई का विवाह राजपूत राजपरिवार में हुआ था। उस काल में वहाँ स्त्रियों के लिए रस्मो-रिवाज के कई बन्धन थे, जैसे-पर्दे में रहना, घर की चौखट के बाहर न निकलना। उन्हें मन्दिरों में गाने-नाचने, संतों के साथ बैठने, अपने पति के अतिरिक्त किसी अन्य पुरुष के साथ किसी भी तरह का सम्बन्ध रखने इत्यादि का अधिकार नहीं था। ऐसे कार्य करने वाली स्त्रियों को ठीक नहीं समझा जाता था। समाज की ओर से उन्हें यातना मिलती थी। मीराबाई ने समाज के इन समस्त नियमों एवं बंधनों को तोड़ा और लोक-लाज खो दी।

 

प्रश्न 5. मीरा ने ‘सहज मिले अविनासी’ क्यों कहा है ?

उत्तर– मीरा का कहना है कि उसके अनुसार कृष्ण अनश्वर है अर्थात् अविनाशी हैं। उन्हें पाने के लिए सच्चे मन और भक्ति-भाव के साथ प्रभु के स्मरण में लीन होना पड़ता है। ऐसा करने से वह सहजता के साथ प्राप्त हो जाते हैं।

प्रश्न 6. कवि को उन आंखों से डर क्यों लगता है?

उत्तर – निराश-हताश किसान की ‘उन आँखों में दर्द, करुणा, पीड़ा एवं दीनता के भाव भरे हुए हैं जिनका सामना करने अथवा जिनकी ओर देखने का सामर्थ्य कवि में नहीं है। अतएव, कवि को किसान की उन आँखों’ से डर लगता है।

प्रश्न 8. डरते हुए भी कवि ने उस किसान की आंखों की पीड़ा का वर्णन क्यों किया है?

उत्तर- डरते हुए भी कवि ने उस किसान की आँखों की पीड़ा का वर्णन किया है। ताकि अन्य लोगों को अन्नदाता की वास्तविक दयनीय स्थिति का पता चल सके। वास्तव में, कवि चाहता है कि किसानों के जिस दारुण-दुखों की अंतहीन कहानी उसने स्वयं महसूस की है, दूसरे लोग भी उससे परिचित हों।

प्रश्न 9. पानी के रात भर गिरने और प्राण-मन के घिरने में परस्पर क्या सम्बन्ध है?

उत्तर-पानी के रात भर गिरने और प्राण-मन के घिरने के मध्य गहरा सम्बन्ध है। वर्षा होने पर मन में भी प्रेम-प्यार की भावनाएँ उमड़ने-घुमड़ने लगती हैं। व्यक्ति का प्राण-मन अपनों से मिलने के लिए व्याकुल हो उठता है। यहाँ कवि कारावास में है। वर्षा हो रही है। रात भर मूसलाधार बारिश होती रही है। कवि के मन में अपने घर से दूर होने की चिन्ता उसे व्यथित कर रही है। उसे अपने घरवालों की अत्यधिक याद सता रही है। जैसे-जैसे पानी रात-भर लगातार बरस रहा है, वैसे-वैसे कवि के प्राण-मन में भी अपने घरवालों की स्मृतियाँ किसी चलचित्र की भाँति निरन्तर उभर रही हैं।

प्रश्न 10. कभी अपनी वास्तविक की स्थिति को पिता से क्यों छुपाना चाहता है?

उत्तर- कवि कारावास की अपनी वास्तविक स्थिति अथवा यथार्थ को अपने घरवालों से छिपाना चाहता है। कारावास में कैद कवि स्वयं को अकेला एवं दुखी अनुभव कर रहा है। सावन में बरसती बरसात की बूंदों के साथ-साथ उसका मन अपने परिजनों की स्मृतियों के संसार में विचरण कर रहा है। वह अत्यन्त दुखी है। अपनी इस मनोस्थिति को कवि अपने घरवालों से छिपाना चाहता है ताकि उन्हें किसी भी प्रकार का दु:ख न पहुँचे। उसे पता है कि उसकी वास्तविक दशा जानकर उसके माता-पिता एवं भाई-बहन और अधिक व्याकुल हो उठेंगे। अत: वह अपनी वास्तविकता को छिपा जाता है।

प्रश्न 13. माटी का रंग प्रयोग करते हुए किस बात की ओर संकेत किया गया है ?

उत्तर– ‘माटी का रंग’ वाक्यांश का प्रयोग करते हुए कवयित्री संथाली आदिवासियों से अपनी मूल संस्कृति को बचाने की बात करती हैं। इसके माध्यम से वह उस‌ ओर संकेत करती हैं जिससे स्थानीय आदिवासियों के‌ मन में अपनी प्राचीन परम्पराओं, रीति-रिवाजों, भाषा एवं पर्यावरण के प्रति पुनः सम्मान स्थापित हो तथा वे विस्थापन के दर्द से उबरकर अपनी नैसर्गिक विशिष्टताओं को सहेज सकें। कवयित्री को अपने संथाली आदिवासी भाई-बहनों की अत्यधिक चिन्ता है और वह चाहती हैं कि यहाँ के लोग अपनी सादगी, सहजता, भोलेपन, अक्खड़पन एवं जुझारूपन इत्यादि को बचाये रखें ताकि झारखण्डी आदिवासी संस्कृति सदैव जीवंत रहे और इस प्रकार वहाँ के लोगों का ललाट स्थानीय माटी के रंग से दमकता रहे।

Note– इसके आगे की 3 अंक, और 4 अंक केेे प्रश्नों का सलूशन आप को बहुत जल्द  अगली पोस्ट में मिल जाएगा।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here