मध्य प्रदेश शिक्षक वर्ग- 3 Syllabus 2022

0
193
मध्य प्रदेश शिक्षक वर्ग- 3 Syllabus 2022
Rate this post

Madhya pradesh samvida shikshak varg- 3 syllabus 2022:- नमस्कार दोस्तों ,कैसे हैं आप सब! आप सब जानते हैं मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी भर्ती संविदा शिक्षक वर्ग 3 का जल्द ही एग्जाम होने वाला है और आपमें से ज्यादातर लोग इस एग्जाम की तैयारी कर रहे होंगे।

मध्य प्रदेश शिक्षक वर्ग- 3 Syllabus 2022

किसी भी एग्जाम को देने से पहले हमें पता होना चाहिए कि उस एग्जाम का सिलेबस क्या है उस एग्जाम का पैटर्न क्या है किस विषय से क्वेश्चन आते हैं और कितने कितने क्वेश्चन आते हैं। इन चीजों का ध्यान रखते हुए हम आज की पोस्ट में मध्य प्रदेश संविदा शिक्षक वर्ग 3 के सिलेबस के बारे में जानकारी देंगे।

यह पोस्ट संविदा शिक्षक वर्ग – 3 2022 के बारे में है । पोस्ट में हमने मध्य प्रदेश संविदा शिक्षक वर्ग 2 सिलेबस की संपूर्ण जानकारी दी है। इसको पढ़कर आप परीक्षा की आसानी से तैयारी कर सकते हैं।

तो चलिए मध्य प्रदेश संविदा शिक्षक वर्ग 2 के सिलेबस में किस विषय से कितने प्रश्न आते हैं। इसके बारे में जानते है ।

Table of contents:–

  1. परीक्षा की योजना एवं पाठ्यक्रम

  2. परीक्षा का स्तर

  3. विस्तृत पाठ्यक्रम

  1. परीक्षा की योजना एवं पाठ्यक्रम

सबसे पहले परीक्षा की योजना और सिलेबस के बारे में जानते हैं

  • इस परीक्षा एक प्रश्न पत्र होगा।

  • इसमें कुल प्रश्न 150 होंगे

  • कुल पूर्णाक 150 रहेगा

  • परीक्षा में किसी भी प्रकार की नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान नहीं है

  • परीक्षा को पूरा करने के लिए आपको 150 मिनट का समय मिलेगा

  • यह एक ऑनलाइन कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा है

क्रमांक

विषय

कुल प्रश्न

कुल अंक

01

बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र

30 प्रश्न

30 अंक

02.

भाषा –1

30 प्रश्न

30 अंक

03.

भाषा – 2

30 प्रश्न

30 अंक

04.

गणित

30 प्रश्न

30 अंक

05.

पर्यावरण अध्य्यन

30 प्रश्न

30 अंक

कुल प्रश्न –150 कुल अंक –150

  1. परीक्षा का स्तर:–

प्रश्नों का स्तर निम्नानुसार रहेगा

  • बाल विकास और शिक्षाशास्त्र के प्रश्न 6 से 11 वर्ष आयु समूह के शिक्षण एवं सीखने के मनोवैज्ञानिक पर आधारित है । जो विशेषताओं की समझ आवश्यकता विभिन्न प्रकार के शिक्षार्थियों के साथ संवाद और सीखने हेतु अच्छी विशेषता और गुणों पर आधारित हो।

  • भाषा एक के प्रश्न पत्र के आवेदन में चुनी गई भाषा के माध्यम से प्रवाहित पर आधारित होंगे।

  • गणित एवं पर्यावरण अध्ययन के प्रश्न विषय की अवधारणा समस्या समाधान पेडागोजी की समझ पर आधारित होंगे।

  1. विस्तृत पाठ्यक्रम:–

1.बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र 30 अंक

  • बाल विकास की अवधारणा एवं इसका अधिगम से संबंध।

  • बाल विकास के सिद्धांत।

  • वंशानुक्रम एवं वातावरण का महत्व।

  • बाल केंद्रित एवं प्रगतिशील शिक्षा की अवधारणा।

  • भाषा और विचार।

  • समाजीकरण प्रतिक्रिया।

  • बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक।

  • बुद्धि की रचना का आलोचनात्मक स्वरूप और उसका मापन।

समावेशीत शिक्षा की अवधारणा एवं विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की समझ।

  • अलाभंबित, एवं वंचित वर्गो सहित विविध प्रष्टभूमियो के अधिगमकर्ताओ की पहचान।

  • अधिगम, कठिनाइयों, छती आदि से ग्रस्त बच्चो की आवश्यकता की पहचान।

  • प्रतिभावान सृजनात्मक विशेष क्षमता वाले अधिगतकर्ताओं की पहचान।

  • समस्याग्रस्त बालक एवं निदानात्मक पक्ष।

  • बाल अपराध कारण एवं प्रकार।

अधिगम और शिक्षा शास्त्र (पेडागीजी)

  • बच्चे कैसे सोचते और सीखते है, बच्चे शाला प्रदर्शन में सफलता प्राप्त करने में क्यों और कैसे असफल होते है।

  • शिक्षण और अधिगम की मूलभूत प्रतिक्रिय, बच्चो के अधिगम की रणनीतियां, अधिगम एक सामाजिक प्रिक्रिया के रूप में, अधिगम का सामाजिक संदर्भ।

  • समस्या समाधानकर्ता और वैज्ञानिक अन्वेषण के रूप में बच्चा।

  • संज्ञान और रुचि

  • अभिप्रेरणा और अधिगम

  • अधिगम।में योगदान देने वाले कारक– व्यक्तिगत और पर्यावरण।

  • स्मृति और विस्मृति

  • निर्देशन और परामर्श।

2. भाषा –1 अंक–30

भाषा समझ/अवबोध – 15 अंक

भाषाई विकास हेतु निर्धारित शिक्षा शास्त्र – 15 अंक

भाषा समझ/अवबोध – 15 अंक :

भाषाई समझ/अवबोध के लिए दो अपठित दिए जाए जिसमे एक गद्यांश (नाटक/एकांकी/घटना/निबंध/कहानी/आदि से) तथा दूसरा अपठित पद्य के रूप में हो इस अपठित में से समझ/अपबोध, व्याख्या, व्याकरण एवं मौखिक योग्यता से संबंधित प्रश्न किए जाए ।

भाषाई विकास हेतु निर्धारित शिक्षा शास्त्र – 15 अंक:

  • भाषा सीखना और ग्रहणशीलता।

  • भाषा शिक्षण के सिद्धांत।

  • मौखिक एवं लिखित अभिव्यक्ति अंतर्गत भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका।

  • भाषा शिक्षण में सुनने बोलने की भूमिका

  • भाषा के कार्य

  • बच्चे भाषा का कैसे प्रयोग करते हैं।

  • भाषा के चारों कौशल (सुनना, बोलना, पढ़ना, और लिखना आदि।)

अंग्रेजी भाषा :–

आगे के डीटेल्ड सिलेबस के लिए नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे

Link – Available soon

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here