चरित्र प्रमाण पत्र के लिए प्रधानाचार्य को पत्र लिखिए

चरित्र प्रमाण पत्र के लिए प्रधानाचार्य को पत्र लिखिए
चरित्र प्रमाण पत्र के लिए प्रधानाचार्य को पत्र लिखिए

character certificate application in hindi – चरित्र प्रमाण पत्र की आवश्यकता हम सबको किसी न किसी कार्य मे होती ही है। अधिकतर इसकी जरूरत हमे जॉब पाने के लिए होती है।इसके अलावा जब हम किसी बड़े इंस्टीट्यूट में प्रवेश लेते हैं तब भी चरित्र प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है।इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको चरित्र प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र लिखना बतायेगें। यह आवेदन पत्र कई बार परीक्षा में पूछा गया है। इसलिए आपको लिखने का सही तरीका पता होना चाहिए जिससे कि आप भी अपनी परीक्षा में इसे सही सही लिखकर पूरे अंक प्राप्त कर पाएं।

दोस्तों यदि आप चाहते हैं कि आप आपका आवेदन पत्र ऐसा हो कि परीक्षक आपको पूरे पूरे नंबर देने पर मजबूर हो जाए तो आज आपको यहां पर वैसे ही आवेदन पत्र लिखना सिखाया जाएगा। आज हम आपको बताएंगे कि आवेदन पत्र लिखते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए तथा आवेदन पत्र लिखने का सही तरीका क्या है। आवेदन पत्र किस प्रकार लिखा जाए कि आप अपने विषय को कम शब्दों में सटीकता से प्रदर्शित कर पाए। आवेदन लिखना बड़ी बात नहीं है किंतु आवेदन को सटीकता से बिना किसी गलती की अच्छा और आकर्षक बनाना हर किसी को नहीं आता लेकिन आज का यह लेख पढ़ने के बाद आपको बहुत अच्छा आवेदन लिखना आने लगेगा। आज की इस आर्टिकल में हम आपको साला क्या प्रमाण पत्र लिखने का सही तरीका बताएंगे पहले जान लेते हैं की आवेदन पत्र लिखने का सही तरीका क्या है।

चरित्र प्रमाण पत्र लिखने का सही तरीका | character certificate application in hindi

इसके लिए आपको परीक्षा में पूछे गए विषय पर आवेदन लिखना होता है। आवेदन 3 पैराग्राफ में लिखा जाता है।

पहले पैराग्राफ में आपको निम्न बिंदु लिखने होते हैं-

  • संबोधन  ‘ सेवा मे,’ लिखे।
  • इसके बाद जिसके लिए आप पत्र लिख रहे हैं उसका पद बताना होता है। जैसे प्राचार्य महोदय, जिला शिक्षा अधिकारी महोदय, या कलेक्टर महोदय आदि जिस भी अधिकारी को आप पत्र लिख रहे है। उसे उसके पद से सम्बोधित करेंगे।
  • उसके बाद जिस संस्था के लिए यह पत्र लिखा जाता है आपको उसका नाम लिखना होता है।
  •  इसके बाद आपको उस शहर का नाम लिखना होता है जहां संस्था है।
  • अब आपको आवेदन का विषय लिखना होता है।अर्थात आप जिस विषय पर आवेदन करना चाहते हैं उसे लिखना होता है जैसे शुल्क मुक्ति, अवकाश, त्याग प्रमाण पत्र हेतु आदि। और यदि शिकायत पत्र हो तो जो शिकायत हो वो लिखते हैं।

दूसरे पैराग्राफ में आपको सम्बंधित विषय पर 8-10 लाइन लिखना होता है। इसमें आपको यह बताना होता है कि आपका विषय कितना सही और विचारणीय है। यह पैराग्राफ बहुत ज्यादा बड़ा नहीं होना चाहये।

अंतिम तीसरे पैराग्राफ में आपको सबसे पहले धन्यवाद लिखना चाहिए।
इसके बाद आपको आपकी आज्ञाकारी शिष्या/ शिष्य लिखना होता है।
इसके नीचे आपको अपना नाम अथवा क ख ग या फिर  अ ब स डाल सकते हैं।यदि आप बोर्ड परीक्षा में आवेदन लिख रहे हैं तो आपको गलती से भी अपना नाम नही लिखना चाहिए।
अंत मे आपको रॉल नम्बर लिखना चाहिए। दिनांक भी अवश्य डाले।

चरित्र प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कैसे लिखें

दोस्तों अब हम आपको चरित्र प्रमाण पत्र का आवेदन लिखकर आपको दिखाते हैं यदि आप भी अपनी परीक्षा में इस प्रकार से लिख कर पूरे अंक प्राप्त कर सकते हैं।
 
सेवा में,
प्राचार्य महोदय,

भारतीय शिशु विद्या मंदिर

 गुना (म.प्र.)

 विषय : चरित्र प्रमाण पत्र प्राप्त करने हेतु आवेदन पत्र।

महोदय,

 निवेदन है कि मैं आपके विद्यालय का छात्र रह चुका हूं। मेरा इसी वर्ष JEE  परीक्षा के लिए चयन निर्धारित हो गया है। सभी आवश्यक दस्तावेज के साथ मुझे अंतिम संस्था प्रमुख से प्राप्त चरित्र प्रमाण पत्र लगाना आवश्यक है। मैंने  इसी वर्ष आपके विद्यालय से 12वीं की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की है। मेरा प्रदर्शन प्रारंभिक कक्षाओं के लिए उत्तम रहा है। खेलो सांस्कृतिक कार्यक्रमों एवं अन्य क्रियाकलापों में भी मैं बढ़ चढ़कर हिस्सा लेता रहा हूं। और मैंने कई पुरुस्कार भी प्राप्त किए हैं। मैंने सदैव अपने गुरुजनों साथियों तथा विद्यालय के अन्य कर्मचारियों के साथ अच्छा व्यवहार किया है। मैं विद्यालय का एक अनुशासित छात्र रहा हूं। में अपना विस्तृत विवरण नीचे दे रहा हूं।

 अतः आपसे निवेदन है कि मुझे मेरा चरित्र प्रमाण पत्र देने की कृपा करें ।मैं सदैव आपका आभारी रहूंगा। धन्यवाद…

दिनांक : ––——–

आपका आज्ञाकारी शिष्य

वरुण शर्मा          

66,दुर्गा कॉलोनी,गुना

   चलिए आपको बताते हैं कि आप से किस प्रकार से प्रश्न पूछा जा सकता है ।

प्रश्न – अपने विद्यालय के प्राचार्य को चरित्र प्रमाण पत्र प्रदान करने हेतु आवेदन पत्र लिखिए ।

प्रश्न आपका नाम वरुण शर्मा है। आप भारतीय शिशु विद्या मंदिर गुना में  अध्ययनरत थे। आपका चयन JEE की परीक्षा में हो गया है अपने प्राचार्य को आवेदन पत्र लिखिए। जिसमें चरित्र प्रमाण पत्र प्राप्त करने का आवेदन किया गया हो।

निर्धन छात्र कोष से छात्रवृत्ति प्राप्त करने के लिए आवेदन-पत्र | Scholarship Application In Hindi

आवेदन लिखने में कभी न करे यह गलतियां

  • सम्बोधन के बाद कोमा लगाना न भूलें।
  • पद तथा संस्था के नाम के बाद भी कोमा अवश्य लगाए।
  • स्थान का नाम लिखने के बाद पूर्ण विराम लगाए।
  • विषय एक लाइन से अधिक का नही होना चाहिए।
  • लाइन या बात पूरी होने पर पूर्ण विराम अवश्य लगाए।
  • आप आवेदन पत्र लिखते समय हिंदी के सरल शब्दों का प्रयोग करें। आवेदन में भाषा को बहुत ज्यादा कठिन न बनाए।
  • अपने विषय को सही बताने का प्रयास करें।
  • एक ही लाइन को बार-बार न दोहराए।
  • शब्दों की शुध्दता का पूर्ण ध्यान रखें।
  • बोर्ड परीक्षा में application में अपना नाम कभी न लिखे। अ ब स ही लिखें।
  • धन्यवाद जरूर लिखें।
  • दिनांक अवश्य डाले।
  • यदि प्रश्न में नाम पता दिया गया है तो उसी नाम पते का प्रयोग करें। अन्यथा आपको नम्बर नहीं दिए जायंगे।

यदि आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया हो तो इसे अपने दोस्तों से शेयर जरूर करें। धन्यवाद…

Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here